Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/icvpkas/public_html/includes/connection.php on line 9
News & Event ::ICAR-Vivekananda Parvatiya Krishi Anusandhan Sansthan
  • हिन्दी दिवस का आयोजन

    भाकृअनुप- विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान अल्मोड़ा में 14 सितम्बर 2018 को हिन्दी दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम संस्थान के प्रयोगात्मक प्रक्षेत्र हवालबाग के सभागार में आयोजित हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ वाई एस परमार औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, सोलन के पूर्व कुलपति  एवं संस्थान की अनुसंधान सलाहकार समिति के अध्यक्ष डाॅ के.आर. धीमन ने की।

    हिन्दी दिवस कार्यक्रम का प्रारम्भ प्रभारी, राजभाषा श्री तेजबहादुर पाल ने अध्यक्ष सहित सभी उपस्थिति अतिथियों का स्वागत एवं अभिनन्दन करते हुए किया। उन्होंने हिन्दी दिवस मनाने का कारण संवैधानिक स्तर पर हिन्दी की प्रगति  सुनिष्चित करने में राजभाषा अधिनियम 1963 राजभाषा संकल्प 1968 एवं राजभाषा नियम 1976 की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने संस्थान में राजभाषा की प्रगति का विवरण प्रस्तुत किया तथा सदन को बताया कि संस्थान नगर राजभाषा कार्यान्वयन का अध्यक्ष कार्यालय है। फलस्वरूप नगर में केन्द्रीय सरकार के 33 सदस्य कार्यालयों में भी राजभाषा की प्रगति को आगे बढ़ाना हमारा दायित्व है। इस अवसर पर संस्थान के निदेषक डाॅ अरूणव पट्टनायक ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए उन्हें इस कार्यक्रम की अध्यक्षता का दायित्व स्वीकारने के लिए हार्दिक धन्यवाद दिया। उन्होंने संस्थान में हिन्दी के कार्य के प्रगति, संसदीय राजभाषा समिति द्वारा संस्थान में राजभाषा कार्य का निरीक्षण एवं इसमें समिति द्वारा संस्थान के कार्यों को सराहने का उल्लेख अपने सम्बोधन में किया। उन्होंने यह भी बताया कि संस्थान में 14 सितम्बर से 13 अक्टूबर 2018 तक हिन्दी चेतना मास का आयोजन किया जा रहा है। अपने सम्बोधन में मुख्य अतिथि डाॅ के.आर. धीमन ने इस समारोह में उन्हें आमन्त्रिात करने के लिए संस्थान के निदेषक का धन्यवाद दिया। उन्होंने बताया कि अपनी संस्कृति एवं अपनी भाषा की अलग पहचान होती है इसलिए हमें अपनी संस्कृति एवं भाषा पर गर्व होना चाहिए। हमारे देष में कोई भी ऐसा राज्य नहीं है जहां लोग हिन्दी बोलते या समझते नहीं है। हिन्दी देष में एक समृद्ध भाषा है इसके माध्यम से हम अपनी सभी बातों को स्पष्ट कर सकते है। उन्होंने स्थानीय भाषा एवं हिन्दी का समावेष कर हिन्दी को आगे बढ़ाने का अनुरोध किया। कार्यक्रम में वरिष्ठ प्रषासनिक अधिकारी श्री वाई.एस. धानिक ने कार्यालय में राजभाषा की स्थिति व प्रगति की जानकारी दी। इस अवसर पर अनुसंधान सलाहाकार समिति के सदस्य डाॅ ए.के. शर्मा, डां एच.सी. भट्टाचार्या सहित संस्थान के सभी वैज्ञानिक, तकनीकी, प्रशासनिक व कुशल सहायक वर्ग के कर्मचारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्री तेज बहादुर पाल एवं धन्यवाद प्रस्ताव श्री एच.एल. मीणा प्रशासनिक अधिकारी द्वारा पारित किया गया।