• कृषि विज्ञान केंद्र चिन्यालीसौड़ में ऊर्जा दक्ष कृषि पंप सेट एवं ऊर्जा संरक्षण पर प्रशिक्षण एवं जागरूकता कार्यशाला का आयोजन

     कृषि विज्ञान केंद्र चिन्यालीसौड़ में दिनांक 20 नवम्बर 2019 को किसानों के लिए उत्तराखण्ड अक्षय ऊर्जा अभिकरण (उरेडा) के सहयोग से ऊर्जा दक्ष कृषि पंप सेट एवं ऊर्जा संरक्षण पर एक दिवसीय प्रशिक्षण एवं जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुवात केंद्र के प्रभारी अधिकारी द्वारा किसानों को ऊर्जा संरक्षण की विभिन्न तकनीकों के बारे में अवगत करा कर की गयी । उनके द्वारा कृषि कार्यों में सौर ऊर्जा के अनुप्रयोग पर बल देते हुए बताया गया कि आज के इस दौर में सौर ऊर्जा का कृषि कार्यों में महत्व काफी बढ़ गया है । अपने सम्बोधन में उन्होंने कहा कि सोलर पंप सेट से लेकर बड़ी - बड़ी आधुनिक मशीनें आज सौर ऊर्जा द्वारा संचालित की जा रही हैं जिससे पर्यावरण को होने वाले दुष्प्रभावों में भी कमी आई हैं । कार्यक्रम में उत्तराखण्ड अक्षय ऊर्जा अभिकरण (उरेडा) उत्तरकाशी की वरिष्ठ परियोजना अधिकारी श्रीमती वंदना ने किसानों के हित में अक्षय ऊर्जा अभिकरण द्वारा चलायी जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया । उन्होंने किसानों को ऊर्जा दक्ष कृषि पंप सेट को कृषि कार्यों में अनुप्रयोग करने को कहा ।

    कार्यक्रम में जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक, उत्तरकाशी श्री बी एस तोमर द्वारा किसानों को बैंक से जुडी विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया गया । कृषि विभाग से आये कृषि अधिकारी द्वारा किसानों को विभाग द्वारा संचालित विभिन्न कार्यक्रमों एवं योजनाओं के बारे में बताया गया । रिलायंस फाउंडेशन के परियोजना निदेशक श्री कमलेश गुरूरानी ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि आज के इस दौर में ऊर्जा संरक्षण की विभिन्न तकनीकों को खोजना जरुरी है । उनके द्वारा जल संरक्षण की विभिन्न तकनीकों के बारे में भी किसानों को अवगत कराया गया । केंद्र के कृषि प्रसार सेवा विशेषज्ञ ने मंच के सफल संचालन के साथ ही किसानों को ऊर्जा संरक्षण से जुडी विभिन्न जानकारियों से अवगत कराया । कार्यक्रम में ग्रामीण कृषि कार्य अनुभव का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे उत्तराँचल विश्वविद्यालय देहरादून से आये बी एस सी कृषि के छात्र छात्राएं एवं राजकीय डिग्री कॉलेज चिन्यालीसौड़ के विद्यार्थियों समेत 150 से अधिक प्रगतिशील किसान  मौजूद रहे ।