• हिन्दी पखवाडा एवं महात्मा गाँधी के 150 वें जन्मदिन के अवसर पर हिन्दी संगोष्ठी का आयोजन

    भाकृअनुप- विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा में दिनांक 30.09.2020 को हिन्दी पखवाडा एवं महात्मा गाँधी के 150 वें जन्मदिन के अवसर पर ऑनलाइन माध्यम से हिन्दी संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय हल्द्वानी के स्कूल आफ जर्नलिज्म एंड मीडिया स्टडीज के निदेशक प्रो0 गोविन्द सिंह मुख्य अतिथि एवं सोबन सिंह जीना परिसर, कुमाँऊ विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा की सेवानिवृत प्रो0 दिवा भट्ट विशिष्ट अतिथि रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के निदेशक डा. लक्ष्मी कान्त द्वारा की गयी। कार्यक्रम का आरम्भ में भाकृअनुप गीत से हुआ। तदुपरान्त विभागाध्यक्ष, फसल उत्पादन डा. जे0के0 बिष्ट ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए उन्हें संस्थान की गतिविधियों एवं उपलब्धियों से अवगत कराया गया। तत्पश्चात् संस्थान के सहायक प्रशासनिक अधिकारी श्रीमती राधिका आर्या ने संस्थान में चल रही हिन्दी की प्रगति की जानकारी दी। संगोष्ठी के दौरान मुख्य अतिथि प्रो0 गोविन्द सिंह ने संस्थान के निदेशक का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि उन्होंने ऑनलाइन माध्यम से इस संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में भागीदारी की। उन्होंने हिन्दी की उत्पति एवं योगदान पर व्याख्यान देते हुए कहा कि कम्प्यूटर के आने के बाद हिन्दी का वर्चस्व बढ़ा है। उन्होने इस बात पर बल दिया कि तकनीकी विकास में हिन्दी की अत्यधिक आवश्यकता है तभी तकनिकियों को आधारभूत स्तर तक पहुचाया जा सकता है। विशिष्ट अतिथि प्रो0 दिवा भट्ट ने अपने सम्बोधन में कहा कि हिन्दी को एक चिन्ह के साथ राजभाषा के रूप में 1950 में अनुमोदन मिला। हिन्दी व्यवस्थित भाषा संस्कृत से निकली है अतः यह भी उतनी ही व्यवस्थित भाषा है। राजभाषा दिवस मनाने के कारण पर प्रकाश डालते हुए उन्होने कहा कि 14 सितम्बर अपनी भाषा का जन्मोत्सव मनाने का दिवस है। उन्होने कहा कि वैज्ञानिक लेखन में हिन्दी में कठिनाई होती है अतः भाषा पर ज्यादा बल ना देते हुए सम्प्रेषण इसका उद्देश्य होना चाहिए।

            

    कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संस्थान के निदेशक डा. लक्ष्मी कान्त ने सभी प्रतिभागियों का अभिनन्दन करते हुए कहा कि यह हमारे लिए सौभाग्य का विषय है कि आज इस अवसर पर हमें हिन्दी के दो विद्वानों को सुनने का मौका मिला है। संस्थान के नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति अल्मोड़ा के अध्यक्ष कार्यालय होने की जानकारी देते हुए उन्होनें बताया कि यह संस्थान अल्मोड़ा नगर में स्थित केन्द्र सरकार के संस्थानों, विभागों राष्ट्रीयकृत बैंकों, सशस्त्र बलों एवं उपक्रमों के बीच सम्नवय स्थापित कर हिन्दी की प्रगति को सुनिश्चित करता है। महात्मा गाँधी के 150 वें जन्मदिवस कार्यक्रम  के अवसर पर  बोलते हुए उन्होने कहा कि गाँधी जी ही पहले ऐसे राजनेता रहे जिन्होने राष्ट्रहित के लिए हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने पर बल दिया। डा. लक्ष्मी कान्त ने यह भी बताया कि यह संस्थान 90 प्रतिशत से अधिक कार्य हिन्दी में करता है और हमारा यह प्रयास है कि शत प्रतिशत कार्य हिन्दी में किया जाय। इस कार्यक्रम में नगर पालिका अध्यक्ष श्री प्रकाश जोशी, संस्थान के पूर्व निदेशक डा. ए0के0 श्रीवास्तव, डा. जे0सी0 भट्ट, संस्थान के पूर्व राजभाषा अधिकारी श्री टी0बी0 पाल, आकाशवाणी अल्मोड़ा के श्री संतोष चन्द्र के अतिरिक्त प्रेस मीडिया के अन्य बन्धु तथा संस्थान के सभी कार्यकर्ता आनलाईन माध्यम से उपस्थित रहे।  कार्यक्रम का सचालन डा. रेनू जेठी तथा धन्यवाद प्रस्ताव श्री ललित मोहन तिवारी द्वारा ज्ञापित किया गया।