• संस्थान में स्वच्छता कार्यक्रम का आयोजन

    भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली के दिशा-निर्देशानुसार भाकृअनुप- विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा संस्थान में दिनांक 16-31 दिसम्बर, 2020 तक स्वच्छता पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज दिनांक 30.12.2020 को संस्थान के अल्मोड़ा स्थित प्रांगण में स्वच्छता गोष्ठी एवं स्वच्छता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि माननीय नगरपालिकाध्यक्ष, अल्मोड़ा श्री प्रकाश चन्द्र जोशी जी एवं विशिष्ट अतिथि माननीय सभासद, विवेकानन्द पुरी वार्ड अल्मोड़ा श्री हेम तिवारी जी ने संस्थान के अन्य कर्मचारियों के साथ स्वच्छता अभियान के कार्यक्रम में भाग लिया। मुख्य कार्यक्रम का शुभारम्भ अल्मोड़ा स्थित सभागार मे आईसीआर गीत के द्वारा किया गया। इस संस्थान के प्रयासों की सराहना करते हुए माननीय मुख्य अतिथि ने कहा कि यह संस्थान स्वच्छता के क्षेत्र में अल्मोड़ा स्थित कार्यालयों एवं विभिन्न संस्थानों के लिए प्रेरणास्रोत है। इस संस्थान में भविष्य में भी इसी प्रकार की स्वच्छता बनाये रखने का आह्वान करते हुए उन्होंने अन्य संस्थानों से भी इसका अनुकरण करने को कहा। उन्होने कहा कि यह संस्थान इसके संस्थापक प्रो0 बोसी सेन के समय से ही स्वच्छता के लिए जाना जाता रहा है और इस संस्थान द्वारा समय-समय पर अल्मोझ़ नगर की स्वच्छता हेतु सराहनीय योगदान दिया जा रहा है जिसके अन्तर्गत संस्थान द्वारा अंगीकृत नगर के मध्य स्थित बद्रेश्वर नौला व राजपुरा क्षेत्रा मे स्वच्छता करना मुख्य है। विशिष्ट अतिथि माननीय सभासद, विवेकानन्द पुरी वार्ड, अल्मोड़ा ने अपने व्याख्यान में इस संस्थान की स्वच्छता का उदाहरण देते हुए सभी से अनुरोध किया कि नगर में स्थित सभी कार्यालयो को भी स्वच्छता हेतु कार्य करना चाहिए।

          

    संस्थान के निदेशक डा. लक्ष्मी कान्त ने मुख्य अतिथि महोदय के स्वच्छता संदेश को आगे बढ़ाने हेतु धन्यवाद देते हुए यह आश्वासन दिया कि वे इस क्षेत्रा एवं वार्ड को स्वच्छ रखने में अपना एवं संस्थान का सहयोग सदैव देते रहेंगे। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के लिए श्री प्रकाश चन्द्र जोशी जी से अधिक उपयुक्त पात्र दूसरा नही हो सकता जिन्होंने शहर को स्वच्छ बनाने के साथ-साथ शहर को वर्तमान स्वरूप देने मे अमूल्य योगदान दिया है। स्वच्छता पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने सभी का आह्वान किया कि स्वच्छता के संस्कार बच्चों में शुरू से ही डालें। कार्यक्रम में संस्थान के वैज्ञानिक डा. रमेश सिंह पाल ने स्वच्छता के विषय में बताते हुए कहा कि स्वच्छता शब्द स्वयं में परिपूर्ण है। उन्होंने कहा कि मानव को तीन प्रकार की स्वच्छता यानि शारीरिक, विचार एवं भाव की शुद्धता सदैव बनाये रखनी चाहिए। कार्यक्रम का संचालन करते हुए प्रभागाध्यक्ष, डा. जे0 के0 बिष्ट जी ने सभी आगन्तुको का स्वागत करते हुए मुख्य अतिथि महोदय के परिचय से सभी को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि स्चच्छ मन ही स्वच्छ कार्य व विचार को जन्म दे सकता है। स्वच्छता के नोडल अधिकारी, डा. कृष्ण कान्त मिश्रा ने सभी को स्वच्छता का महत्व बताते हुए उक्त पखवाड़े में चल रहे विभिन्न स्वच्छता कार्यक्रमों की पावर पांइन्ट के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि स्चच्छता पखवाडे के दौरान संस्थान द्वारा विभिन्न कार्यक्रम जैसे- अल्मोड़ा व हवालबाग स्थित दोनों परिसरों, कार्यालयों, प्रक्षेत्रा, अंगीकृत गाँवों में स्वच्छता अभियान, गोष्ठी, विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित किए गए। कार्यक्रम के दौरान संस्थान समस्त वैज्ञानिक, अधिकारी व अन्य कर्मचारी उपस्थित रहे।