• त्रिपुरा में संकर मक्का बीज उत्पादन प्रदर्शन और सब्जी प्रदर्शनों का निरीक्षण

    भाकृअनुप-विवेकान्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा के वैज्ञानिको ने उत्तर पूर्वी हिमालयी (एनईएच) कार्यक्रम के अंर्तगत 17 से 20  फरवरी, 2021 तक त्रिपुरा का भ्रमण किया। गुणवत्ता युक्त प्रोटीन वाले मक्का के संकर वी.एल. क्यू.पी.एम. संकर मक्का 59 को बीज उत्पादन हेतु उत्तर चारिलम गाँव, सिपाहीजला, त्रिपुरा में कृषि विज्ञान केन्द्र, सिपाहीजला, त्रिपुरा के समन्वयन से प्रक्षेत्र में प्रशिक्षण के साथ लगाया गया। डाॅ. देवेन्द्र शर्मा एवं डाॅ. जी.एस.बिष्ट द्वारा एकल क्रास संकर में मक्का संकर बीज उत्पादन तकनीकी को समझाया गया। प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन कार्यक्रम में किसानों एवं कृषि विज्ञान केन्द्र सिपाहीजला के वैज्ञानिकों (डाॅ. जोय एवं श्री पीयूष) सहित कुल 30 लोगों ने भागीदारी की। किसानों को संकर बीज उत्पादन प्रदर्शन के लिए 1: 2 के अनुपात में नर और मादा बीजों के रोपण का प्रशिक्षण दिया गया और 3250 वर्ग मी. भूमि में लगवाया गया।

    इसके अलावा त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के कलकलिया जीपी और पटालिया जीपी गाँव में सब्जी प्रदर्शनों का निरीक्षण भी किया गया। कलकलिया जीपी गाँव में फ्रासबीन प्रजाति कटाई की अवस्था में थी तथा फसल काफी अच्छी थी। कृषक के अनुसार यह फ्रासबीन की प्रजाति स्वादिष्ट होने के साथ लम्बे जीवन काल वाली रही। पटालिया जीपी गांव में वी.एल. टमाटर 4 का प्रदर्शन संतोषजनक पाया गया। कृषि विज्ञान केन्द्र, खोबाई के डाॅ. नुरूल इसलाम एवं डाॅ. सुरेश चन्द्र विश्वास के साथ पूर्वी चंद्र घाट के बातापुरा गांव के भ्रमण के दौरान पाया गया कि फ्रासबीन की फसल तुड़ाई की प्रांरभिक अवस्था में थी तथा फसल अच्छी तरह से प्रबन्धित थी। पूर्वी चन्द्रघाट के लम्बापारा एवं कामिनीपारा गांव में फ्रासबीन की फसल पुष्पन की प्रांरभिक अवस्था में थी तथा फसल वृद्वि संतोषजनक थी। कृषक फ्रासबीन तथा टमाटर की इन प्रजातियों के प्रदर्शन से प्रसन्न थे।

    Demonstration on  hybrid maize seed production and monitoring of vegetable demonstrations in Tripura

                The Scientists of ICAR-VPKAS, Almora, visited Tripura from 17th Feb. to 20th Feb. 2021 under North-Eastern Himalayan (NEH) Programme. Maize hybrid seed production demonstration of QPM hybrid VL QPMH 59 was planted in collaboration with KVK Sepahijala, Tripura at North Charilam Village, Sepahijala, Tripura, and onsite training programme. Dr. Devender Sharma and Dr. G. S. Bisht explained the maize hybrid seed production technology in the single-cross hybrids. A total of 30 farmers and scientists from KVK Sepahijala (Dr. Joy and Mr. Pijush) participated in the training and demonstration event. The farmers were given hands-on training in planting male and female seeds in the ratio of 1:2 for the hybrid seed production demonstration and was planted in 3250m2 land.

    Besides, monitoring the vegetable demonstration in the village Kalkalia G.P and Patalia G.P of district Sepahijala, Tripura, was also undertaken. In the village Kalkalia G.P, the french bean variety was at the harvesting stage and the crop health was good. According to the farmer, the french bean was tasty and its shelf-life was also longer. The performance of VL Tamatar 4 was found satisfactory in the Patalia G.P village. In a visit to village Batapura of East Chandra Ghat along with Dr Nurul Islaam and Dr Suresh Chandra Vishwas of KVK Khowai, the French bean crop was at the initial picking stage and the crop was well managed. In the village, Lambapara and Kaminipara of East Chandra Ghat French bean was in the initial flowering stage and crop growth was satisfactory. Farmers were happy with the performance of these French bean and tomato varieties.