• भाकृअनुप - विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा विकसित वी. एल. पोर्टेबल पाॅलीहाउस के निर्माण हेतु समझौता

    भाकृअनुप - विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने मैसर्स ऐरोटेक इंजीनियरिंग वक्र्स प्राइवेट लिमिटेड चल्ताबैरिआ जिला उत्तर-24, परगनास पश्चिम बंगाल - 743248 के साथ ‘वी. एल. पोर्टेबल पाॅलीहाउस’ के निर्माण हेतु दिनांक 01 मार्च 2021 को समझौता ज्ञापन (एम. ओ. ए.) पर हस्ताक्षर किये। रचलित स्थायी पाॅलीहाउस में लगातार 4 से 5 वर्षो तक खेती करने के बाद मृदा स्वास्थ्य खराब होने एवं कीट-पतंगों व मृदा जनित बीमारियों में वृद्धि होती है जिस कारण उत्पादकता में कमी आती है एवं खेती की लागत बढ़ जाती है। ऐसी स्थितियों में या तो किसान को सतह की मिट्टी को बदलना पड़ता है या फिर स्थायी पाॅलीहाउस को किसी नये खेत में ले जाना पड़ता है, जो बहुत महंगा और थकाऊ होता है। इसके अलावा ऊंची पहाड़ियों (समुन्द्र तल से 1250 मीटर से अधिक ऊंचाई) में बड़े आकार के खेत आसानी से उपलब्ध नही हो पाते और अगर मिल भी जाते है तो वे चैड़ाई मे पतले (2 से 5 मी.)  होते हैं अन्यथा लम्बाई में सीधे नहीं होते। दो या दो से अधिक छोटे खेतों को मिलाकर एक खेत बनाने में न केवल अत्यधिक मिट्टी कटाई का कार्य करना पड़ता है, बल्कि लागत को भी बढ़ाता है एवं दो खेतों के बीच ऊध्र्वाधर ऊंचाई बढ़ जाती है। उपरोक्त समस्याओं के समाधान हेतु भाकृअनुप.-वि.प.कृ.अनु.सं., अल्मोड़ा द्वारा अखित भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना प्लास्टिक इंजीनियरिंग, कृषि संरचना और पर्यावरण नियन्त्रण (ए.आई.सी.आर.पी. ऑन पी.ई.ए.एस.ई.एम) के तहत छोटे आकार में कम लागत वाले “वी.एल. पोर्टेबल पाॅलीहाउस” का विकास किया गया है। पोर्टेबल पाॅलीहाउस तीन टुकड़ों का बना है, जोकि एक-दूसरे से सटे हुए होते हैं और पाॅलीथीन के एकल टुकड़े से ढका होता है। इस पाॅलीहाउस को आवश्कतानुसार आसानी से एक खेत से दूसरे खेत में स्थानांतरित किया जा सकता है। पाॅलीहाउस का डिजाइन अर्धवृत्ताकार (क्योसेंट) है एवं क्षेत्रफल 62.4 वर्ग मीटर (आयाम 12 मी. लम्बाई व 5.2 मी. चैड़ाई व 2.6 मी. ऊंचाई एवं 1 मी. का स्पैन) और इसका निर्माण नट-बोल्ट व वैल्डिंग द्वारा किया गया है। इसमें प्राकृतिक वायु-संचार (वेन्टिलेसन) है एवं वर्षा जल व ओस को संग्रहण करने का प्रावधान है। इसका उपयोग बहुउद्देशीय है एवं आवश्यकतानुसार सब्जी उगाने, अत्यधिक सर्दी में मछली के तालाबों को ढकने इत्यादि में किया जा सकता है। फसल को खुले में बाहर एक निश्चित अवस्था (जब फसल को पाॅलीहाउस की आवश्यकता नहीं होती) तक उगाया जा सकता है बाद में पोर्टेबल पाॅलीहाउस को स्थानांतरित किया जा सकता है। इस प्रकार किसान पोर्टेबल पाॅलीहाउस का प्रयोग रिलेे क्राॅपिंग की तरह करके प्रति इकाई समय उत्पादकता बढा सकता है। एक पोर्टेबल पाॅलीहाउस का मूल्य रू0 80,000/ + टैक्स  है।