• भाकृअनुप-वि.प.कृ.अनु.सं. में अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस का आयोजन


    भाकृअनुप-वि.प.कृ.अनु.संस्थान के अल्मोड़ा व हवालबाग कैंपस में 8 मार्च, 2021 को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत एक  बैठक का आयोजन किया गया जिसमें अल्मोड़ा की अपने संबधिंत क्षेत्र में प्रख्यात महिलाऐं, संस्थान की महिला कर्मचारी एंव विभिन्न क्षेत्रों से आयी कृषक महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि डाॅ. दीवा भट्ट, प्राध्यापक एस.एस.जे कैपस, अल्मोड़ा एवं विशिष्ठ अतिथि वरिष्ठ रेडियोलाॅजिस्ट, डाॅ. कुसुम लता रहीं।

    इस अवसर पर वर्ष 2021 के महिला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस के प्रसंग ’कृषि में महिला नेतृत्व: उद्यमिता, समानता और सशक्तिकरण‘ को स्पष्ट किया गया। डाॅ. कुसुमलता ने अपने संबोधन में करियर और परिवार के बीच संतुलन स्थापित करने पर जोर दिया एवं महिलाओं को स्वास्थ के महत्व पर जानकारी दी। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि डाॅ. दीवा भट्ट ने भारत में महिलाओं की स्थिति एवं समय के साथ आए बदलाव का अवलोकन प्रस्तुत किया। आगे उन्होने यह भी कहा कि स्वस्थ और प्रगतिशील राष्ट्र के लिए लैंगिक समानता बहुत महत्वपूर्ण है। साथ ही उन्होने महिला सुरक्षा जैसे विशेष मुद्दों पर भी जोर दिया। कार्यक्रम के दौरान प्रगतिशील महिला कृषक श्रीमती लीला देवी, श्रीमती कमला कैड़ा, श्रीमती कलावती देवी और श्रीमती मंजू देवी को कृषि के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए सम्मानित किया गया। सम्मानित कृषक महिलाओं ने कृषि से संबधिंत समस्याओं और मुद्दो के बारे में अपने अनुभव को भी साझा किया। डाॅ. लक्ष्मी कान्त, निदेशक, भाकृअनुप-वि.प.कृ.अनु.सं. ने अपने सम्बोधन में पहाड़ी कृषि के क्षेत्र में महिलाओं के योगदान सराहा। उन्होने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के विषय पर चर्चा की और समाज में महिलाओं के अधिकारों और जिम्मेदारियों में संतुलन के महत्व पर भी प्रकाश डाला।

    कार्यक्रम के दौरान महिला कृषकों को अनुसुचित जाति कार्यक्रम के अन्तर्गत कृषि यन्त्रों का वितरण किया गया। कार्यक्रम के अन्त में डाॅ. कुशाग्रा जोशी द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव ज्ञापित किया गया। कार्यक्रम में संस्थान ने वैज्ञानिक, तकनीकी और प्रशासनिक वर्ग के कर्मचारियों के साथ-साथ उत्तराखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों की 54 से अधिक कृषक महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम का समन्वयन व संचालन डाॅ. प्रियंका खाती व डाॅ. आशा कुमारी द्वारा किया गया।

     

       

     

    International Women’s Day Celebration at ICAR-VPKAS, Almora

    ICAR Vivekananda Parvatiya Krishi Anusandhan Sansthan, Almora observed International Women’s Day in both its campus at Almora (offline) and Hawalbagh (through online mode). At Almora campus, a meeting was held in which women employees of the institute and women from Almora city known for their exemplary contributions in their respective fields participated. Dr. Diva Bhatt, Professor, SSJ Campus and Dr. Kusum Lata, Senior Radiologist from District Hospital, Almora were the two eminent speakers for the day. It was an occasion for the members to ponder and reflect on women’s status, to appreciate how much has been done and what more needs to be done in the field of gender equality. The theme given for the year 2021 “Women Leadership in Agriculture: Entrepreneurship, Equity and Empowerment” was elucidated. During the event Dr. Kusum Lata addressed that there should be a balance between careers and family and also discussed the importance of good health maintenance for women who lays a basic foundation for her family. Dr. Diva Bhatt presented an overview of women’s status in India and how it changed over time. Further she said, gender equality is very important for a healthy and progressive nation. Dr. Diva Bhatt also stressed on some special issues like women security and safety. Four women farmers namely Mrs. Leela Devi, Mrs. Kamla Kaira, Mrs. Kalawati Devi and Mrs. Manju Devi were awarded for their important contribution in the field of hill agriculture. The awardees also shared their experience about agriculture related problems and issues. Distribution of inputs under the scheme of SCSP was also done during the program. Dr. Lakshmi Kant, Director, ICAR-VPKAS in his address acknowledged the eminent role of women in the field of hill agriculture. He discussed the theme of International Women’s Day this year and also highlighted the importance of balance between rights and responsibilities of women in our society.  Finally, the program ended with a vote of thanks by Dr. Kushagra Joshi. This program was attended by scientific, technical and administrative staff of ICAR-VPKAS  Almora along with more than 54 farm women from different region of Uttarakhand.