भाकृअनुप-विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा के प्रयोगात्मक प्रक्षेत्र हवालबाग में खरीफ किसान मेले का आयोजन

भाकृअनुप-विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा के प्रयोगात्मक प्रक्षेत्र हवालबाग में दिनांक 25 मार्च, 2022 को खरीफ किसान मेले का आयोजन किया गया। समारोह की मुख्य अतिथि सुश्री वंदना, जिलाधिकारी, अल्मोड़ा थी। इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने संस्थान द्वारा पर्वतीय कृषि पर किये जा रहे शोध कार्याें की सराहना की। उन्होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में किसान समेकित खेती कर अधिक आय अर्जित कर सकते है।  उनके अनुसार कृषकों द्वारा सामूहिक खेती को प्रोत्साहन देकर अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है। जिलाधिकारी महोदया ने संस्थान के वैज्ञानिकों से अनुरोध किया कि वे विकसित बीजों एवं तकनीकों को अधिक से अधिक प्रयोगशाला से खेत तक ले जाने में राज्य सरकार के कृषि एवं अन्य रेखीय विभागों को अपना सहयोग दें ताकि कृषक इन तकनीकों से लाभान्वित हो सके। पर्वतीय महिलाओं की चारा एवं ईधन इकट्ठा करने की समस्या के मध्येनजर उन्होंने संस्थान से ऐसा यंत्र विकसित करने का आग्रह किया जिससे महिलाओं के श्रम को कम किया जा सके। उनके अनुसार स्थान आधारित फसल चक्र भी कृषकों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ करने में सहायक हो सकता है।  विशिष्ट अतिथि नगर पालिकाध्यक्ष श्री प्रकाश चन्द्र जोशी जी ने संस्थान के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की जा रही वैज्ञानिक पद्वतियेां की सराहना करते हुए किसानों से आग्रह किया कि वे इन पद्धतियेां का लाभ उठा कर अपनी फसल उपज को बढ़ा सकते है। फलस्वरूप उनकी आय में भी वृद्धि हो सकती है। संस्थान द्वारा मशरूम की खेती हेतु बनाये जा रहे कम्पोस्ट की प्रशंसा करते हुए उन्होंने पर्वतीय क्षेत्रों में मशरूम की खेती को लाभदायक बताया। निदेशक, आकाशवाणी, अल्मोड़ा श्री प्रतुल जोशी जी ने 25 मार्च नार्मन ई बोरलॉंग के जन्म दिवस का जिक्र करते हुए उनके हरित क्रान्ति में किये गये योगदान को बतलाते हुए किसानों को प्रोत्साहित किया। मुख्य अतिथि द्वारा संस्थान के प्रसार प्रपत्र “पर्वतीय क्षेत्रों में ख़ाद्य सामग्री सुखाने हेतु वी.एल. सोलर ड्रायर (सौर शुष्क)” का विमोचन किया गया। इस अवसर पर संस्थान की दो धान प्रजातियों नामतः वी.एल. धान 159 एवं वी.एल. धान 88 का लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र, बागेश्वर की एन.आई.सी.आर.ए. (निक्रा) परियोजना का शुभारंभ भी किया गया। मेले के दौरान प्रगतिशील किसान श्री महेन्द्र कुमार, श्री पंकज सिंह बिष्ट, श्री नन्दन प्रकाश, श्रीमती उमा भट्ट, श्री दिगा राम को पुरस्कृत किया गया।

इससे पहले संस्थान के निदेशक डा. लक्ष्मी कांत ने मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथियों, आगन्तुकों व कृषकों का स्वागत करते हुए पर्वतीय कृ़िष के क्षेत्र में संस्थान द्वारा किये गए शोध कार्यों तथा विकसित तकनीकों का विवरण दिया गया। उनके द्वारा संस्थान की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा गया कि अभी तक संस्थान द्वारा विभिन्न फसलों की 175 प्रजातियॉं विकसित की गयी है जो राज्य एवं केन्द्र स्तर पर विमोचित एवं अधिसूचित है। इसके अलावा संस्थान द्वारा विकसित अन्य तकनीकियों, जैसे विशिष्ट फसल प्रजातियों, रोग एवं कीट प्रबन्धन, पॉलीहाउस, पॉलीटैंक एवं विभिन्न लघु कृषि यंत्रों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने संस्थान द्वारा बीजोत्पादन, प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा विकसित मोबाईल एप आदि की जानकारी दी। इस अवसर पर संस्थान में चल रही अनुसूचित जाति एवं जनजाति परियोजनों के अन्तर्गत पौडी़ गढ़वाल के कृषकों को लघु कृषि यंत्र एवं एग्री कैनन गन का वितरण किया गया। किसान मेले में आयोजित प्रदर्शनी में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अनेक संस्थानों, कृषि विज्ञान केन्द्रों एवं सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थानों द्वारा प्रतिभाग किया गया एवं लगभग 30 प्रदर्शनियाँ लगायी गयी। मुख्य अतिथि ने संस्थान के प्रक्षेत्र एवं प्रदर्शनी भ्रमण के दौरान संस्थान द्वारा चलाये जा रहे शोध कार्यो की जानकारी ली एवं संस्थान द्वारा कृषक हित में चलाये जा रहे कार्यक्रमों की सराहना की। इस अवसर पर मुख्य कृषि अधिकारी, मुख्य उद्यान अधिकारी अल्मोड़ा, सहित विभिन्न संस्थानों एवं विभागों के वैज्ञानिक एवं अधिकारी उपस्थित थे। मेले में उत्तराखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों से आये 600 से अधिक कृषकों ने प्रतिभागिता की एवं विभिन्न फसलों एवं प्रदर्शनियों का भ्रमण किया। मेले में आयोजित कृषक गोष्ठी में पर्वतीय कृषि से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की गयी साथ ही कृषकों की विभिन्न समस्याओं का कृषि वैज्ञानिकों द्वारा त्वरित समाधान किया गया। विभिन्न कृषकों द्वारा अपने अनुभव साझा किये गये।  किसान मेले में कृषक गोष्ठी का संचालन डा. बी.एम.पाण्डे, कार्यक्रम का संचालन डा. कुशाग्रा जोशी एवं धन्यवाद प्रस्ताव डा. जे.के. बिष्ट, विभागाध्यक्ष ने किया।