भा.कृ.अनु.प.-विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के अल्मोड़ा परिसर में एग्री स्टार्टअप कॉन्क्लेव एवं प्रधानमंत्री किसान सम्मान सम्मेलन का सीधा प्रसारण

भा.कृ.अनु.प.-विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के अल्मोड़ा परिसर में दिनांक 17.10.2022 को कृषि एवं कृषि कल्याण मंत्रालय के एग्री स्टार्टअप कॉन्क्लेव एवं प्रधानमंत्री किसान सम्मान सम्मेलन का सीधा प्रसारण किया गया। जिसका उद्देश्य देश भर के किसानों को स्टार्ट-अप प्रदर्शनी के माध्यम से एक साथ लाना था। इस अवसर पर संस्थान में श्री अजय टम्टा, माननीय सांसद, अल्मोड़ा मुख्य अतिथि एवं श्री कैलाश शर्मा, पूर्व सांसद एवं वर्तमान में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विशिष्ट अतिथि रहे। कार्यक्रम की शुरूआत में ही निदेशक द्वारा संस्थान की नवीनतम तकनीकों की जानकारी मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि को दी गयी। कार्यक्रम का शुभारंभ भाकृअनुप गीत से किय गया तत्पश्चात् संस्थान के निदेशक डॉ. लक्ष्मी कान्त ने श्री अजय टम्टा, श्री कैलाश शर्मा एवं सभी महानुभावों का स्वागत करते हुए संस्थान द्वारा पर्वतीय कृषकों हेतु चलायी जा रही नवीनतम गतिविधियों की जानकारी दी एवं एग्री स्टार्टअप कॉन्क्लेव एवं प्रधानमंत्री किसान सम्मान सम्मेलन की रूपरेखा से अवगत कराया। इस अवसर माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आनलाइन माध्यम से 8 करोड़ कृषकों के खातें में किसान सम्मान निधि की 12वीं किस्त जो कि कुल रू0 16 हजार करोड़ थी, को डाला।  इस अवसर पर उन्होंने किसान समृद्धि केन्द्र का भी उद्घाटन किया और बताया कि भविष्य में 3 लाख वन स्टाप सेंटर तथा 600 किसान समृद्धि केन्द्र स्थापित किये जायेंगे। साथ ही यह भी बताया कि खाद्य व उर्वरक की अच्छी गुणवत्ता हेतु एक ब्रांड ‘‘भारत’’ नाम से चलेगा जिससे कृषक लाभान्वित होंगे। 


इस अवसर पर मुख्य अतिथि महोदय श्री अजय टम्टा जी ने कुमाऊँनी भाषा में सभी का अभिनन्दन करते हुए कहा कि भाकृअनुप- विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान अल्मोड़ा खेती-बाड़ी में एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है, जिससे इसकी प्रसिद्धि देश स्तर पर हो रही है। जमीन व सूर्य की महत्ता को बताते हुए उन्होंने वैज्ञानिक कृषि एवं तकनीकी तथा नयी विपणन पद्धति के अंगीकरण पर बल दिया। विशिष्ट अतिथि महोदय श्री कैलाश शर्मा जी ने कृषकों उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि वे संस्थान को सहयोग देने हेतु सदैव तत्पर रहेंगे। साथ ही उन्होंने संस्थान के प्रत्येक कार्यकर्ता की किसानों को तकनीकी प्रसार बहुत ही सरल भाषा में किये जाने की भूरी-भूरी प्रशंसा की। इस अवसर पर प्रगतिशील कृषकों ने अपने विचार रखे तथा संस्थान द्वारा दिये जा रहे सहयोग की सराहना करते हुए बताया कि वे संस्थान की तकनीकियों से वर्तमान में 82 प्रतिशत तक का लाभांश अर्जित कर रहे हैं।  इस अवसर पर उत्तराखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों से 340 से अधिक कृषकों ने प्रतिभागिता की। इस कार्यक्रम का संचालन डॉ. आशीष कुमार सिंह एवं धन्यवाद प्रस्ताव डा. जे. के. बिष्ट ने किया।