• भाकृअनुप-वि.प.कृ.अनु.संस्थान अल्मोड़ा में पर्वतीय कृषि के लिए कौशल कृषि विषय पर आजादी का अमृत महोत्सव मनाया गया

    विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, अल्मोड़ा द्वारा "पर्वतीय कृषि के लिए कौशल कृषि" विषय पर 6 से 11 सितंबर 2021 तक सप्ताह भर तक आजादी का  अमृत महोत्सव मनाया गया। इस उपलक्ष्य में विभिन्न कार्यक्रमों का  आयोजन किया गया तथा पूरे सप्ताह को कृषक जागरूकता सप्ताह के रूप में मनाया गया। इसी कड़ी में संस्थान द्वारा 10-11 सितंबर, 2021 के दौरान पर्वतीय कृषकों के कौशल विकास हेतु एक वेबिनार का आयोजन किया गया। इस दो दिवसीय वेबिनार में किसानों की आय वृद्धि हेतु सर्वाधिक महत्वपूर्ण विषयों पर उनका कौशल विकास करने हेतु आलू की खेती, पर्वतीय फसलों में एकीकृत रोग एवं कीट प्रबंधन, पर्वतीय क्षेत्रों में आय वृद्धि हेतु संरक्षित खेती,  बेमौसमी सब्जी उत्पादन और मशरूम की खेती पर विभिन्न व्याख्यान शामिल किए गए थे।इस वेबिनार में उत्तराखंड के विभिन्न जनपदों के लगभग 300 किसानों एवं उध्यमियों ने ज़ूम एवं यू ट्यूब लिंक के माध्यम से सहभागिता की। इसके अतिरिक्त अखिल भारतीय सब्जी अनुसंधान शोध परियोजना के पूर्व प्रमुख डॉ एस के वर्मा जी, मेघालय के उप कृषि निदेशक, अरुणञ्चल प्रदेश, मिज़ोरम, मणिपुर, सिक्किम, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कृषि विज्ञान केन्द्रों के अधिकारी, और पौड़ी, अल्मोड़ा, एवं बागेश्वर के मुख्य उद्यान अधिकारी द्वारा भाग लिया गया।      

    कार्यक्रम के समापन पर संस्थान के निदेशक डॉ लक्ष्मीकांत ने बताया कि इस सप्ताह में लगातार 5 दिन वैज्ञानिकों के विभिन्न दलों द्वारा मेरा गाँव मेरा गौरव के अंतर्गत चयनित ग्रामों में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। इसके अतिरिक्त उत्तर पश्चिमी तथा उत्तर पूर्वी हिमालयी क्षेत्रों के लिए एक खरीफ फसलों में रोग एवं कीट प्रबंधन विषय पर “ट्रेनर्स ट्रेनिंग” का भी आयोजन किया गया। उन्होने विश्वास जताया कि ये वेबिनार किसानों की कई समस्याओं का समाधान करेगा। उन्होने कहा कि यह वेबिनार सिर्फ एक शुरुवात है और हमारा यह संबंध अनवरत रूप से आगे भी चलता रहेगा। उन्होने बताया की हमारे सारे कार्यक्रम यू ट्यूब के संस्थान के चैनल पर उपलब्ध रहेंगे। कार्यक्रम का संचालन डॉ0 बृज मोहन पाण्डेय ने किया।

         

    ICAR-Vivekananda Parvatiya Krishi Anusandhan Sansthan, Almora celebrated the week-long celebration on Commemoration of 75 years of independence i.e. Azadi ka Amrit Mahotsav on the theme "Skill Agriculture for Hill Agriculture" from 6th to 11th September, 2021. Various programmes were organized to mark the occasion and the entire week was celebrated as Farmers Awareness Week. In this occasion, a webinar was also organized by the Institute for skill development of hill farmers from September 10-11, 2021. To develop the skills of farmers on the most important issues for increasing their income in this two-day webinar the lectures on Potato cultivation, Integrated Diseases and Pest Management, Income Enhancement from Protected Cultivation, Off Season Vegetable Cultivation and Mushroom Cultivation were included.

    About 300 farmers and students from different districts of Uttarakhand participated in this webinar through zoom and YouTube links. Scientists from ICAR institutes, officials from Directorate of Agriculture, Meghalaya, Directorate of Horticulture, Uttarakhand and of various Krishi Vigyan Kendras of Arunanchal Pradesh, Mizoram, Manipur, Sikkim, Madhya Pradesh, Himachal Pradesh and Uttarakhand participated in the programme.  Dr. Lakshmi Kant, Director of the Institute said in his concluding remark that awareness programmes were organized by scientists in selected villages under Mera Gaon Mera Gaurav for last 5 consecutive days. In addition, "Trainers Training" on disease and pest management in Kharif crops was also organized for North Western and North Eastern Himalayan regions. He expressed confidence that this webinar will solve many problems of the farmers. He said that the webinar is just a beginning and our relationship will continue to grow. He informed that all the programmes will be available on YouTube channel of the Institute. Dr. Brij Mohan Pandey coordinated the webinar.